सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के शो पुण्यश्लोक अहिल्याबाई ने रानी अहिल्याबाई होल्कर के प्रेरक जीवन के विश्वसनीय चित्रण के साथ अपने दर्शकों से एक खास रिश्ता बना लिया है । यह कहानी अहिल्याबाई के मालवा साम्राज्य की सबसे कुशल शासक बनने का सफर दिखाती है, जिन्हें आगे चलकर मातोश्री की उपाधि दी गई ।

पुण्यश्लोक अहिल्याबाई में भोला का किरदार निभाएंगे दुष्यंत वाघ

यह तो सभी जानते हैं कि अपने ससुर मल्हार राव होल्कर के अटूट समर्थन से अहिल्या ने पहले से निर्धारित किए गए पुरुषवादी नियमों को तोड़ा और समाज के सबसे कठिन संघर्षों पर जीत हासिल की। हालांकि उल्लेखनीय यह है कि अपनी इस यात्रा में अहिल्याबाई कुछ और लोगों से भी मिलीं, जिन्होंने उन्हें इस स्तर पर पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाईं। शुरुआत में जब अहिल्याबाई का विवाह खंडेराव से हुआ और वे होल्कर परिवार का हिस्सा बनीं, तो उन्हें वहां के सख्त रीति-रिवाजों को अपनाने में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा। पहले तो उनके मन में आया कि वे होल्कर हवेली छोड़कर चले जाएं, लेकिन फिर उनकी मुलाकात भोला से हुई। भोला घूम घूमकर अपनी कला का प्रदर्शन करने वाले एक कलाकार थे, जो भगवान शिव की तरह वेश अपनाते थे। भोला ने उन्हें यह समझाया कि अपनी समस्याओं से दूर भागने में कोई हल नहीं है और उन्हें महल में वापस लाने के लिए राजी किया। चूंकि भोला भगवान शिव के वेश में रहते थे, तो बचपन में मासूम अहिल्या उन्हें सचमुच भगवान समझती थी। उन्हें लगता था कि वो उनकी मदद के लिए ही स्वर्गलोक से आए हैं।

इस शो के मेकर्स ने भोला का महत्वपूर्ण किरदार निभाने के लिए पापुलर एक्टर दुष्यंत वाघ को चुना है। दुष्यंत पिछले दो दशकों से मनोरंजन जगत का हिस्सा रहे हैं और इन वर्षों में उन्होंने अपने हर काम में अपना हुनर दिखाया है ।

पुण्यश्लोक अहिल्याबाई में भोला का किरदार निभाएंगे दुष्यंत वाघपुण्यश्लोक अहिल्याबाई का हिस्सा बनने को लेकर दुष्यंत वाघ ने कहा, “हालांकि मैं पहले भी कुछ ऐतिहासिक प्रोजेक्ट्स का हिस्सा रहा हूं, लेकिन पुण्यश्लोक अहिल्याबाई सबसे खास है । बाकी के पीरियड ड्रामा से अलग इस कहानी में किसी तरह की प्रेम कहानी या युद्ध नहीं है बल्कि यह हमें अहिल्याबाई होल्कर के व्यक्तिगत सफर की झलक दिखाती है । इस शो में एक वीरांगना के साहस और हिम्मत की कहानी है । मैं ऐसे शो से जुड़कर वाकई गर्व महसूस कर रही हूं, जिसमें एक असाधारण कहानी है । भोला का किरदार निभाना मेरे लिए सम्मान की बात है, जिसने अपने छोटे-से प्रयास से अहिल्याबाई को भारतीय इतिहास की सबसे कुशल शासकों में से एक बनने में मदद की ।”