हिंदी सिनेमा के दिग्गज फ़िल्ममेकर में से एक, कारण जौहर को गोल्ड हाउस गाला मेंगोल्ड लीजेंड ऑनरसे सम्मानित किया गया । लॉस एंजेलिस में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में संस्था ने A100 लिस्ट तैयार की थी जिसमें एशिया और पैसिफिक आइलैंड की सौ से ज्यादा ऐसी शख्सियतें शामिल हैं जो कल्चर और सामाजिक दृष्टि से काफी इंपेक्ट रखती हैं । इन सौ लोगों की लिस्ट में करण जौहर का नाम भी शामिल है । करण जौहर ने अपनी अभी तक की पच्चीस साल की जर्नी में जो नायाब फिल्में बनाई है, उसके लिए उन्हें सम्मानित किया गया । सम्मान मिलने के बाद करण जौहर ने अपनी थैंक्यू स्पीच से सभी का ध्यान अपनी ओर खींच लिया ।

गोल्ड हाउस गाला में सम्मानित हुए करण जौहर ने भारतीय फ़िल्म जगत को ‘बॉलीवुड’ शब्द की जगह इंडियन सिनेमा कहे जाने पर ज़ोर दिया

करण जौहर ने बॉलीवुड की जगह इंडियन सिनेमा कहे जाने पर ज़ोर दिया

ग्लोबल स्टेज पर करण नेबॉलीवुडशब्द की जगह इंडियन सिनेमा यानी भारतीय सिनेमा कहे जाने पर ज़ोर दिया । करण ने अपनी थैंक्यू स्पीच में कहा,- “मैंबॉलीवुडशब्द के बारे में कुछ कहना चाहता हूं... हमें हॉलीवुड पसंद है । लेकिन हम राइम नहीं करना चाहते हैं । हम एक कॉपीकेट से कहीं अधिक हैं । इसलिए मैं आप सभी से निवेदन करता हूं कि हमें बॉलीवुड की जगह इंडियन फ़िल्म जगत (इंडियन सिनेमा) कहा जाए । क्योंकि हमें भारतीय होने पर गर्व है । और साथ ही इतनी बड़ी फ़िल्म इंडस्ट्री को रिप्रेजेंट करना वाक़ई गर्व की बात है ।

इस अवॉर्ड को रिसीव करने के साथ ही करण जौहर ने भी अपनी जर्नी के बारे में बात की । और, ये भी बताया कि इन सालों में वो किस किस से सबसे ज्यादा प्रभावित और इंस्पायर हुए हैं । जिसमें से एक उनकी मम्मी भी है । करण जौहर ने लिखा कि वो ये अवॉर्ड अपनी मां को डेडिकेट करते हैं ।

इसके अलावा करण ने इंस्टाग्राम के जरिए भी इस सम्मान का आभार जताया और ये पुरस्कार अपनी माँ को डेडिकेट किया । गोल्ड लीजेंड ऑनर देने वाली संस्था गोल्ड हाउस के लिए करण जौहर ने लिखा कि, ये एशियन अचीवर्स और टैलेंट को पहचान देने वाली अहम संस्था है । ये संस्था ऐसे लोगों को सम्मानित करती है जिनका कॉन्ट्रीब्यूशन न्यू गोल्ड एज के रूप में पहचाना जाता है ।