सुशांत सिंह राजपूत केस में जब से ड्रग्स एंगल सामने आया है उसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शोविक चक्रवर्ती को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में ले लिया है । अब रिया 22 सितंबर तक जेल में रहेंगी । सुशांत केस में रिया चक्रवर्ती शुरूआत से ही लोगों और खासकर मीडिया के निशाने पर आईं । लेकिन अब रिया चक्रवर्ती को बॉलीवुड का सपोर्ट मिल रहा है । इन्होंने रिया के मीडिया ट्रायल को 'विच हंट' का नाम दिया है और इसे जल्द से जल्द रोकने के लिए एक खुला पत्र मीडिया के नाम लिखा है ।

रिया चक्रवर्ती के सपोर्ट में आए बॉलीवुड सितारें, मीडिया के नाम ओपन लैटर लिखकर कहा- ‘रिया के विच हंट को रोकें’

रिया चक्रवर्ती की अनुचित विच हंट को रोक दें

फेमिनिस्ट वॉइस के नाम से पब्शिल हुए इस खुले पत्र में डायरेक्टर अनुराग कश्यप, गौरी शिंदे और जोया अख्तर, एक्ट्रेस सोनम कपूर और लगभग 2500 लोगों ने हस्ताक्षार किए हैं । 60 संगठनों ने इस पत्र को बढ़ावा दिया है । इस पत्र को भारत की मीडिय को संबोधित करके के लिखा गया है । इसमें कहा गया, “खबरों का शिकार करें, महिलाओं का नहीं ।”

इस ओपन लैटर में लिखा है, “हम आपको बताने के लिए लिख रहे हैं, न्यूज मीडिया को रिया के अनुचित विच हंट को रोक दें और अच्छी महिलाओं के नैतिक ध्रुवीकरण को रोक दें और बुरी महिलाओं को सूली पर चढ़ाया जाना चाहिए जो सभी महिलाओं को खतरे में डालती हैं । हम जानते हैं कि आप अंतर कर सकते हैं क्योंकि हमने देखा है कि समलान खान और संजय दत्त के प्रति आपने दुनिया को कितना दयालुपन और सम्मान दिखाया ।

हम लोगों से उनके परिवार, फैंस और करियर्स के बारे में सोचने के लिए कहा । लेकिन जब एक युवा महिला के नाम सामने आया, जबकि उसने उसका अपराध साबित नहीं हुआ है, आपने उसके चरित्र का चीरहरण किया । एक ऑनलाइन भीड़ को उकसाया, गलत मांगों को हवा दी और उसे अपनी जीत कहा । कौन सी जीत है इसमें ?”

पत्र में आगे लिखा है, “आपको केवल एक कहानी बनाने का जुनून सवार हो गया है: एक युवा महिला जो अपने फैसले खुद करती है, जो बिना शादी के अपने प्रेमी के साथ रहती है और जो खुद को संकट में काम करने वाले की तरह अभिनय करने के बजाय खुद के लिए बोलती है, एक नैतिक रूप से संदिग्ध चरित्र है । उसे किसी भी कीमत पर, बिना जांच के, कानून की प्रक्रिया के बिना और अपने अधिकारों के सम्मान के लिए, एक अपराधी माना जाता है ।”

यह भी पढ़ें : सुशांत सिंह राजपूत की फ़ैमिली के खिलाफ़ सख्त से सख्त लीगल एक्शन लेने की तैयारी कर रही हैं रिया चक्रवर्ती

पत्र में आगे लिखा है, “महिलाओं पर पहले से ही कई लोग अविश्वास जता रहे होते हैं । उन्हें आजादी के लिए गालियां दे रहे होते हैं । यह जाहिर तौर पर जीडीपी से लेकर हेल्थ तक जैसे मुद्दों पर स्टोरी करने से आसान है, जिनसे हमारा देश फिलहाल गुजर रहा है । एक महिला को विक्टीमाइज करना आसान है। क्योंकि उन पर पहले से ही कई लोग अविश्वास जता रहे होते हैं । उन्हें उनकी हलकी सी आजादी के लिए गालियां दे रहे होते हैं । यह जाहिर तौर पर जीडीपी से लेकर हेल्थ तक जैसे मुद्दों पर स्टोरी करने से आसान है, जिनसे हमारा देश फिलहाल गुजर रहा है । मीडिया को महामारी के इस दौर में मेंटल हेल्थ के बारे में सतर्क रहना चाहिए । क्योंकि इसके चलते खुदकुशी की दर बढ़ रही है ।”