ऐसा लगता है कि, भारतीय सेंसर बोर्ड अब अंतरराष्ट्रीय समकक्षों की तुलना में कहीं अधिक उदार हो गया है । भारत में, राजकुमार हिरानी की संजय दत्त्त की जिंदगी पर बनी फ़िल्म संजू इस शुक्रवार रिलीज होने के लिए तैयार है । आतंकवादी आरोपी के रूप में संजय दत्त की अपराधीता पर कथित विवादास्पद नैतिक रुख के बावजूद, इस फ़िल्म को भारतीय सेंसर बोर्ड द्वारा 'UA' प्रमाण पत्र दिया गया है । लेकिन यूनाइटेड किंगडम में फिल्म को '15' रेट किया गया है, इस अंतर्गत 15 वर्ष से कम आयु के गैर-वयस्कों को ग्रेट ब्रिटेन में संजू को देखने की अनुमति नहीं है ।

यहां 15 साल से कम आयु के बच्चे नहीं देख पाएंगे संजू, और इसका कारण ये है…

ग्रेट ब्रिटेन संजू नहीं देख पाएंगे 15 वर्ष से कम आयु के बच्चे

ग्रेट ब्रिटेन में 15 वर्ष से कम आयु के गैर-वयस्कों को संजू देखने की अनुमति नहीं दिए जाने की वजह बताते हुए ब्रिटिश बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन ने कहा कि, "इस फ़िल्म में ड्रग्स संदर्भ, ड्रग का इस्तेमाल, स्ट्रोंग सेक्स संदर्भ' इत्यादि का इस्तेमाल हुआ है ।"

यह भी पढ़ें : संजय दत्त की उलझी हुई जिंदगी की ये 12 अनसुनी बातें शायद ही कोई जानता होगा

इस मुद्दे पर जहां सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन के अध्यक्ष प्रसून जोशी कोई भी टिप्पणी करने के लिए मौजूद नहीं थे, लेकिन सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष पहलज निहलानी ने इस संबंध में कहा कि, "मुझे लगता है कि सेंसर बोर्ड मेरे कार्यकाल के दौरान संस्कारवान था लेकिन अब ऐसा नहीं है । यदि एक फ़िल्म को यूके में 15 वर्ष से कम आयु के दर्शकों को फ़िल्म देखने की अनुमति नहीं दि गई है, तो ठीक है, लेकिन भारत में उसी फ़िल्म को 12, साल से कम उम्र का बच्चा एक व्यस्क के साथ देख सकता है, इसका मतलब है कि, हमें एक राष्ट्र के रूप में उदार महसूस करना चाहिए ।''