बॉलीवुड की दिग्गज कॉरियोग्राफ़र सरोज खान का शुक्रवार देर रात कार्डियक अरेस्ट के चलते मुंबई में निधन हो गया । वह 71 साल की थीं । सरोज खान पिछले कई दिनों से मुंबई के बांद्रा में स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में भर्ती थीं । सरोज खान को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था । खबरों के मुताबिक उन्होंने देर रात 1.52 मिनट पर अंतिम सांस ली । पिछले दिनों सरोज की कोविड-19 टेस्ट भी कराया गया जो कि नेगेटिव आया था ।

बॉलीवुड की 71 वर्षीय कॉरियोग्राफ़र सरोज खान का हार्ट अटैक से निधन

सरोज खान लंबे समय से बीमार थी

कहा जाता है कि सरोज पिछले कई समय से डायबिटीज और इससे संबंधित बीमारियों से जूझ रही थीं । उनका अंतिम संस्कार शुक्रवार को मुंबई स्थित मलाड मुस्लिम कब्रिस्तान में परिवाजन की मौजूदगी में होगा ।

बता दें कि मात्र तीन साल की उम्र से बतौर बैकग्राउंड डांसर अपना करियर शुरू करने वाली सरोज को 1974 में पहली बार गीता मेरा नाम से बतौर कोरियॉग्राफर फिल्म इंडस्ट्री में ब्रेक मिला था । चार दशक से अधिक के करियर में सरोज को 2 हजार से अधिक गीतों को कोरियोग्राफ करने का श्रेय जाता है । सरोज ने लंबे समय से काम से ब्रेक ले रखा था । बीते साल (2019) उन्होंने वापसी की और मल्टीस्टारर फिल्म कलंक और कंगना रनौत की फिल्म मणिकर्णिकाः द क्वीन ऑफ झांसी में एक-एक गाना कोरियॉग्राफ किया था ।

सरोज ने हिंदी सिनेमा के कई लोकप्रिय गानों को कोरियोग्राफ किया है जैसे- देवदास का डोला रे डोला, माधुरी दीक्षित स्टारर तेजाब फिल्म का गाना एक दो तीन और जब वी मेट फिल्म का ये इश्क हाय जैसे गीतों को उन्होंने ही कोरियोग्राफ किए हैं । वह तीन बार बेस्ट कोरियॉग्रफी के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी जीत चुकी हैं । यही नहीं उन्होंने कुछ फिल्मों में बतौर राइटर भी काम किया है ।