सुशांत सिंह राजपूत के केस में ड्रग्स एंगल सामने आने के बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने रिया चक्रवर्ती को गिरफ़्तार कर लिया है । एनसीबी द्दारा रिया चक्रवर्ती को गिरफ़्तार करने के बाद 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भायखला जेल भेज दिया गया है । आज मुंबई सेशंस कोर्ट में रिया की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई । कोर्ट ने दो दिन की सुनवाई के बाद रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती समेत 6 लोगों की जमानत याचिका को खारिज कर दिया । अब रिया को 22 सितंबर तक भायखला जेल में ही रहना होगा । बता दें कि रिया चक्रवर्ती को मंगलवार को तीन दिनों की पूछताछ के बाद एनसीबी ने 8 (C), 27 (A), 29, 20 (B) और 28 धाराओं के तहत गिरफ़्तार किया है ।

ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को नहीं मिली जमानत, 22 सितंबर तक रिया को रहना होगा जेल में

रिया चक्रवर्ती को जेल में ही रहना होगा

सुनवाई के दौरान एनसीबी ने रिया और शोविक की जमानत का कड़ा विरोध जताया था । उन्होंने कोर्ट में कहा था कि ये दोनों सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं । हालांकि रिया के वकील सतीश मानशिंदे ने दावा किया कि एनसीबी ने रिया को बयान के देने के लिए दबाव बनाया । उन्होंने रिया की मानसिक स्थिति बिगड़ने का भी अनुमान जताया है । उन्होंने कहा कि रिया के पास कोई ड्रग्स बरामद नहीं हुआ है ।

यह भी पढ़ें : ड्रग्स मुहैया कराने के आरोप में NCB द्दारा गिरफ़्तार हुईं रिया चक्रवर्ती 22 सितंबर तक भायखला जेल में ही रहेंगी

रिया के वकील सतीश मानशिंदे ने कोर्ट में उनकी जमानत को लेकर दलीलें पेश करते हुए कहा कि रिया ने दवाब में आकर अपना बयान दिया है । रिया ने जमानत की अर्जी में दावा किया था कि उन्हें ये सब कहने के लिए मजबूर किया गया था और उन्होंने कोई जुर्म नहीं किया है। जमानत की अर्जी में लिखा गया है कि रिया ने कोई क्राइम नहीं किया है और उन्हें इसमें झूठा फंसाया जा रहा है । रिया को खुद पर दोष लगाने के लिए मजबूर किया गया था और 8 सितंबर को उन्होंने जो प्रार्थनापत्र दिया उसमें वह इन कुबूलनामों से पीछे हट गईं । वहीं शौविक ने एनसीबी को दिए बयान में कुबूल किया था कि वह सुशांत के लिए ड्रग्स का इंतजाम करते थे और रिया उसके लिए उन्हें पैसे देती थीं ।