बॉलिवुड ऐक्ट्रेस कंगना रनौत अपनी बयानबाजियों को लेकर अक्सर चर्चा में रहती हैं । सोशल मीडिया पर अपनी बयानबाजी के चलते कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली चंदेल पर मुंबई में 4 आपराधिक मामले चल रहे हैं । जिन चार केस की बात की गई है उनमें जावेद अख्तर का केस भी शामिल है । इन्हीं केस के सिलसिले में कंगना और रंगोली आज सुप्रीम कोर्ट पहुंची जहां उन्होंने चारों केस को हिमाचल प्रदेश में ट्रांसफर करने की मांग के लिए याचिका दाखिल की । याचिका में कहा गया है कि उनके सभी केस को मुंबई से शिमला ट्रांसफर किया जाए क्योंकि अगर ट्रायल मुंबई में चलता है तो उनको शिवसेना के नेताओं से जान का खतरा है ।

कंगना रनौत ने जान का खतरा बताकर अपने ऊपर चल रहे सभी क्रिमिनल केस को मुंबई से शिमला ट्रांसफ़र करने की अपील की

कंगना रनौत ने की सुप्रीम कोर्ट से अपील

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है कि कंगना को शिवसेना के नेताओं से खतरा है इसलिए केस को हिमाचल ट्रांसफर किया जाए । हालांकि, सुप्रीम कोर्ट में अभी कंगना की याचिका पर सुनवाई की तारीख तय नहीं की है ।

कंगना ने अपनी याचिका में कहा है कि महाराष्ट्र सरकार जान बूझकर उनका शोषण कर रही है । इसके अलावा कंगना और उनकी बहन रंगोली ने ये भी दावा किया है कि ये सभी केस उनकी छवि को खराब करने की नियत के साथ किए गए हैं । कंगना और रंगोली के इन चारों केस को उनके वकील नीरज शेखर देख रहे हैं । कंगना ने जिन 4 केस को मुंबई से शिमला ट्रांसफ़र कराने की याचिका सुप्रीम कोर्ट में पेश की है वो केस हैं-

जावेद अख्तर द्दारा कंगना पर किया गया मानहानि का केस । इस मामले में कंगना पर आईपीसी की धारा 499 और 500 के तहत मामला दर्ज है । दूसरा केस है रंगोली चंदेल पर वकील अली कासिफ़ खान देशमुख ने दायर किया है । इसके अलावा तीसरा केस भी दोनों बहनों पर ट्वीट को लेकर ही है । ये केस मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट, अंधेरी में चल रहा है । और चौथा केस गोली और कंगना पर मुन्नवर अली ने फ़ाइल किया था । ये केस दोनों बहनों पर महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ एक ट्वीट को लेकर किया गया है ।

वर्क फ्रंट की बात करें तो कंगना की अगली फिल्म थलाइवी रिलीज के लिए तैयार है । यह फ़िल्म जयललिता की बायोपिक फ़िल्म है जिसमें कंगना जयललिता के किरदार में नजर आएंगी । यह फ़िल्म इसी साल 30 जुलाई को सिनेमाघरों में रिलीज होगी । इसके अलावा कंगना की आगामी फ़िल्में हैं- धाकड़ और तेजस ।